अक्तूबर 05, 2008

हो सके तो
बचा के रखना
अपने बचपने की
हर वो आदते - जिस पे डांट पड़ती थी ।

पुरानी दोस्ती सी
उनमे बसी है
तुम्हारे होने की ताकत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वागत ...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...